बीसीसीआई ने चाइनीज बायकाट को दिखाया ठेंगा, कहा Vivo से नहीं करेंगे करार खत्म

बीसीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरूण धूमल ने गुरुवार को कहा कि हमें चीनी मोबाइल कंपनी वीवो से हर साल स्पॉन्सरशिप के जरिए 440 करोड़ रुपए मिलते हैं और उससे हमारा करार 2022 तक है। इसके बाद ही स्पॉन्सरशिप की समीक्षा की जाएगी। धूमल ने कहा कि चीनी कंपनी से हुए स्पॉन्सरशिप करार से पैसा भारत में आ रहा है न कि वहां जा रहा। हमें यह समझना होगा कि चीनी कंपनी को उसके हित में सहयोग करने और चीनी कंपनी के जरिए देश का हित साधने में बड़ा फर्क है।

बोर्ड कोषाध्यक्ष ने आगे कहा कि मैं निजी तौर पर चीन के सामान पर आत्मनिर्भरता कम करने के पक्ष में हूं। लेकिन जब तक वहां की कंपनियों को देश में बिजनेस करने की इजाजत है, तब तक अगर कोई चीनी कंपनी आईपीएल जैसे भारतीय ब्रांड को स्पॉन्सर करती है तो उसमें कोई बुराई नहीं।

उन्होंने आगे कहा कि चीनी कंपनियां भारत में अपने प्रोडक्ट बेचकर जो पैसा कमाती हैं उसका बड़ा हिस्सा ब्रांड प्रमोशन के नाम पर बीसीसीआई को मिलता है। बोर्ड उस कमाई पर केंद्र सरकार को करीब 42 फीसदी टैक्स देता है